धन वापसी

हमारी योजना है हर भारतीयों को समृद्ध बनाना।

हमें इसकी आवश्यकता क्यों है?

भारत में सभी सरकारें देश में समृद्धि लाने में नाकाम रही है। पिछले 70 सालों में उन्होंने हमारी संपत्ति का दुरूपयोग किया है। लेकिन अब समय आ गया है कि हम अपने उचित हक की मांग करे। यदि हम एक समृद्ध राष्ट्र में रहना चाहते हैं तो गरीबी, बेरोजगारी, शिक्षा और स्वास्थ्य की कमी निरंतर जारी नहीं रह सकती है।

यह कैसे संभव होगा?

यह कैसे संभव होगा?

नयी दिशा आम जनता को सार्वजनिक संपत्ति लौटाने की दिशा में काम करेगी। यह वापसी सार्वजनिक संपत्ति के मुद्रीकरण के माध्यम से अर्जित पैसों से होगी, जिसे आम लोगों को उनके बैंक खातों में सीधे वितरित किया जाएगा। इसके साथ ही, नयी दिशा आर्थिक सुधारों पर भी ज़ोर देगी, जिससे भारत समृद्धि के मार्ग पर अग्रसर होगा। अधिक जानकारी के लिए - कृपया हमारी सार्वजनिक धन मुद्रीकरण रिपोर्ट देखें।.

इस संपत्ति का कुल मुल्य क्या है?

इस संपत्ति का कुल मुल्य क्या है?

भारत खनिज और अन्य प्राकृतिक संपदाओं के मामलें में बहुत धनी देशों में से एक है। विश्लेषकों के अनुसार भारत की खनिज संपदा 5000 लाख करोड़ रूपये से अधिक की है। इसके अलावा, हम अनुमान लगाते हैं कि विभिन्न मंत्रालयों, विभागों और सार्वजनिक क्षेत्रक उपक्रम के साथ सार्वजनिक भूमि का मूल्य ₹ 340 लाख करोड़ रुपये हैं।

इसके अतिरिक्त यदि इसमें 20 प्रतिशत खनिज संपदा और सार्वजनिक संपत्ति के मूल्यों को जोड़ा जाए तो, भारत कम से कम 1340 करोड़ रूपए की संपत्ति का मालिक है। यह राशि प्रत्येक भारतीय परिवार को प्रति वर्ष 1 लाख रूपए प्रदान करने के लिए पर्याप्त है।

हमने इस संपत्ति की जानकारी सार्वजनिक रूप से विकीपीडिया पर एक साथ संगठित कर प्रकाशित किया है। आप भी इस विकिपीडिया पेज पर जानकारी प्रदान कर अपना योगदान दे सकते हैं। सार्वजनिक संपत्ती विकी.

हम भारत को समृद्ध बना सकते हैं - पीढ़ियों में नहीं, बल्कि दो चुनावों के मध्य में। 130 करोड़ से अधिक भारतीयों का भविष्य हमारे वर्तमान कार्यों पर निर्भर करता है। आइए अब हम और समय बर्बाद न करें।

Rajesh Jain

नयी दिशा आंदोलन से जुड़े

अधिक प्रश्नों के लिए हमसे संपर्क करेंFAQs.